उतर प्रदेशउतराखंडओपिनियनचंडीगढ़छत्तीसगढ़छोटा पर्दाजनरल नॉलेजझज्जरदिल्लीफिल्‍म ट्रेलर और नए गानेफिल्‍म समीक्षाफिल्‍मी ख़बरेंहरियाणाहिसार
Trending

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन


1
 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

बॉलीवुड के इति‍हास में यूं तो कई सारी जोड़ियां बनी और बिखरीं. मगर कुछ ही जोड़ियां ऐसी रहीं जिनका तालमेल ऑनस्क्रीन भी शानादार रहा और ऑफ स्क्रीन भी. इन्हीं चुनिंदा जोड़ियों में से एक है अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय बच्चन की जोड़ी. इस जोड़ी ने 20 अप्रैल, 2007 को सात फेरे लिए थे. शादी की तेरहवीं सालगिरह पर बता रहे हैं कपल से जुड़ा एक किस्सा.

2 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय बच्चन रियल लाइफ में शानदार बॉन्डिंग शेयर करते हैं. दोनों के बीच कभी अनबन की खबरें सामने नहीं आई. यहां तक कि आराध्या के होने के बाद से दोनों के रिश्ते को और मजबूती मिली है. मगर प्यार-मोहब्बत के साथ रिश्ते में हल्की-फुल्की अनबन ना हो तो फिर मजा ही क्या. एक दफा ऐसा कुछ हुआ था जब ऐश्वर्या पति अभिषेक से खफा हो गई थीं और अभिषेक को दो दिनों तक हॉल में सोना पड़ा था.

3 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

अभिषेक बच्चन की खुद की कबड्डी टीम है जिसका नाम जयपुर पिंक पैंथर्स है. टीम 2014 में प्रो कबड्डी लीग की विजेता रही थी. एक दफा अभिषेक बच्चन अपनी टीम को ट्रेनिंग के सिलसिले में चेन्नई की सत्यभामा यूनिवर्सिटी लेकर गए थे. वहां उनकी मुलाकात इस यूनिवर्सिटी के फाउंडर कर्नल जेपिआर से हुई.

4 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

कर्नल जेपिआर का ऑफिस छोटा था और वहां दो-चार कुर्सियों और एक डेस्क के सिवा ज्यादा कुछ नहीं था. इसी के साथ नीचे ज़मीन पर कई सारी ट्रॉफ़ियां सजी हुई थीं.

5 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

अभिषेक बच्चन, कर्नल जेपिआर की सादी जीवनशैली से काफी प्रभावित हुए. जब अभिषेक ने कर्नल से पूछा कि ये ट्रॉफियां ज़मीन पर क्यूं रखी हैं, तो कर्नल जेपिआर ने इसकी वजह बताई.

6 / 10

जब अभ‍िषेक से नाराज हुई थीं ऐश्वर्या, दो दिन हॉल में सोए थे जूनियर बच्चन

वजह ये थी कि कर्नल साहेब नहीं चाहते थे कि अवॉर्ड उनपर हावी हो जाएं. कर्नल ने कहा कि- ” पुरस्कारों को कभी अपने सिर पर नहीं चढ़ने देना चाहिए.

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Your Page Title
Close
Close