महाराष्ट्रमुंबई
Trending

बिग बी कोरोना पॉजिटिव / जलसा बंगले में जांच और सैनिटाइजेशन के लिए बीएमसी की टीम पहुंची, पूरे बंगले को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया; अंदर हैं ऐश्वर्या और जया बच्चन

अमिताभ बच्चन के जलसा बंगले के बाहर मौजूद बीएमसी के स्वास्थ्यकर्मी। ये बंगले को सैनिटाइज करने के साथ कांटेक्ट ट्रेसिंग का काम भी करेंगे।
( जलसा बंगले के गेट पर प्रतिबंधित क्षेत्र का बैनर टांगता हुआ बीएमसी का एक कर्मचारी। )

8 सदस्यों की टीम में कोरोना जांच करने वाले एक डॉक्टर भी शामिल हैं

ये स्टाफ की स्क्रीनिंग के साथ कांटेक्ट ट्रेसिंग का काम भी शुरू करेंगे

ख़बर सफ़र मीडिया

Jul 12, 2020, 11:10 AM IST

मुंबई. अभिनेता अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद बीएमसी की एक टीम रविवार सुबह 9 बजे जलसा बंगले पर पहुंची। यह टीम पूरे बंगले को सैनिटाइज करेगी। अभिनेत्री जया बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन और उनकी बेटी आराध्या बच्चन फिलहाल इसी बंगले में क्वारैंटाइन हैं।

8 सदस्यों की टीम में कोरोना जांच करने वाले एक डॉक्टर भी शामिल हैं। ये स्टाफ की स्क्रीनिंग के साथ कांटेक्ट ट्रेसिंग का काम भी शुरू करेंगे। यह भी जानकारी मिल रही है कि जलसा बंगले के पड़ोस के बंगलों में रहने वालों की स्क्रीनिंग भी जाएगी।

जलसा बंगला प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित

बंगले की जांच के बाद इसे प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया है। इससे जुड़ा एक पोस्टर भी गेट पर लगाया गया है। यानी इसके बाद अब बाहर का कोई व्यक्ति बंगले में अगले आदेश तक प्रवेश नहीं कर सकता है।

प्रतीक्षा और जनक बंगले को भी सैनिटाइज किया जाएगा
अमिताभ के जलसा के अलावा जनक और प्रतीक्षा बंगलों को भी सैनिटाइज किया जाएगा। हर बंगलों में 8-8 कमर्चारी भेजे गए हैं। ये तीनों बंगले मुंबई के पौष जुहू इलाके में स्थित हैं।

अमिताभ और अभिषेक की आरटी-पीईसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आई
अमिताभ और अभिषेक की आरटी-पीईसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनके स्टाफ और परिवार के अन्य लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। हालांकि इनके नामों का खुलासा नहीं हुआ है।

क्या है आरटी-पीसीआर टेस्ट?
भारत में कोविड-19 की जांच के लिए दो तरह के टेस्ट किए जा रहे हैं- आरटी-पीसीआर टेस्ट और रैपिड ऐंटीबॉडीज टेस्ट। पहले बात करते हैं आरटी-पीसीआर टेस्ट की। इसका मतलब है रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेस चेन रिएक्शन टेस्ट। यह एक ऐसी लैब टेक्निक है जिसमें आरएनए के डीएनए में रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन को जोड़ते हुए वायरस का पता लगाता है। दूसरा- एंटीबॉडी टेस्ट में ब्लड का इस्तेमाल होता है ताकि वायरस के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया का पता लगाया जाए।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Your Page Title
Close
Close