खेलखेल की अन्य खबरेंहरियाणा
Trending

Khelo India Youth Games :इस साल होने वाला इवेंट रद्द; 2021 में ओलिंपिक के बाद होंगे खेलो इंडिया यूथ गेम्स, हरियाणा को मिली मेजबानी

खेलो इंडिया गेम्स 3 साल में स्कूल से यूनिवर्सिटी तक पहुंचे, पहली बार 2018 में दिल्ली में हुए थे

इन गेम्स में चयनित एक हजार खिलाड़ियों को हर साल 5 लाख रुपए स्कॉलरशिप दी जाती है

 खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 रद्द

Updated: Sat,25 Jul 2020 10:45 PM (IST )

कोरोना के कारण इस साल नवंबर-दिसंबर में होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 रद्द कर दिए गए हैं। साथ ही 2021 गेम्स की मेजबानी हरियाणा के पंचकुला को मिली है। यह गेम्स अगले साल टोक्यो ओलिंपिक के बाद होंगे। इसकी घोषणा खेल मंत्री किरण रिजिजू ने शनिवार को की। हालांकि, यूथ गेम्स का अभी शेड्यूल जारी नहीं किया गया है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने कहा, ‘‘खेलो इंडिया यूथ गेम्स की मेजबानी मिलने से खुश हैं। पंचकूला में हर तरह के खेलों के लिए बेहतर सुविधाएं हैं। पंचकूला के पास चंडीगढ़ भी है, ऐसे में खिलाड़ियों के रहने की व्यवस्था में भी कोई दिक्कत नहीं आएगी। यदि खेल मंत्रालय परमिशन देगा, तो हम पंचकूला से सटे जिलों में भी कुछ खेलों का आयोजन करवाना चाहेंगे।’’

स्कूल से यूनिवर्सिटी तक ऐसे पहुंचा खेलो इंडिया
पहले खेलो इंडिया स्कूल गेम्स दिल्ली में 31 जनवरी से 8 फरवरी 2018 तक हुए थे। इसमें अंडर-17 के खिलाड़ियों शामिल हुए थे। दूसरी बार यह गेम्स 2019 में महाराष्ट्र के पूणे में 9 से 20 जनवरी तक हुए थे। इसमें स्कूल के साथ अंडर-21 के खिलाड़ियों को भी शामिल किया गया था। तीसरी बार में यूनिवर्सिटी गेम्स भी शुरू किया गया। ताकि अंडर-25 के खिलाड़ियों को भी प्लेटफॉर्म मिल सके। यह तीसरे खेल इंडिया स्कूल और यूथ गेम्स इसी साल 10 से 22 फरवरी तक गुवाहटी में हुए थे। जबकि खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स उड़ीसा में हुए।

इस साल गुवाहटी यूथ गेम्स में 2 नए खेल शामिल हुए थे
इस साल गुवाहाटी खेलो इंडिया यूथ गेम्स में 18 खेल हुए थे। जबकि 2018 स्कूल और 2019 के यूथ गेम्स में 16-16 खेलों का आयोजन किया गया था। गुवाहाटी यूथ गेम्स में साइकिलिंग और लॉन बॉल को शामिल किया गया। इनके अलावा आर्चरी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, बॉक्सिंग, फुटबॉल, जिम्नास्टिक, हॉकी, जूडो, कबड्‌डी, खो-खो, शूटिंग, स्वीमिंग, वॉलीबॉल, वेटलिफ्टिंग और रेसलिंग भी शामिल रहे थे।

देश के टॉप खिलाड़ियों और टीमों को मिलता है मौका
खेलो इंडिया में स्कूल नेशनल गेम्स और दूसरे खेल एसोसिएशन के नेशनल टूर्नामेंट्स के टॉप-8 खिलाड़ियों और टीमों को खेलने का मौका मिलता है। इसमें से भी टॉप खिलाड़ियों को सेलेक्ट कर उन्हें स्कॉलरशिप दी जाती है।

सिलेक्टेड 1000 खिलाड़ियों को हर साल 5 लाख रुपए स्कॉलरशिप मिलती है
हर साल बेस्ट करने वाले 1000 खिलाड़ियों को इंटरनेशनल चैम्पियनशिप की तैयारी के लिए 8 साल के लिए 5 लाख रुपए स्कॉलरशिप हर साल दी जाती है। इनमें से उन्हें एक लाख 20 हजार रुपए पॉकेट मनी के रूप में दी जाती है और बाकी रकम उनके रहने, खाने-पीने और ट्रेनिंग पर खर्च की जाती है।

मनु भाकर और सौरभ चौधरी जैसे खिलाड़ी खेलो इंडिया से निकले
खेलो इंडिया के तहत चयनित कई खिलाड़ी इंटरनेशनल स्तर पर मेडल जीत कर टारगेट ओलिंपिक पोडियम स्कीम में शामिल हो चुके हैं। स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) के अधिकारी के मुताबिक, वेटलिफ्टर जेरेमी लालरिननुंगा, शूटर सौरभ चौधरी, मनु भाकर, स्वीमर श्री हरी नटराज खेलो इंडिया से ही निकले हैं। मनु भाकर, सौरभ चौधरी ओलिंपिक कोटा भी हासिल कर चुके हैं।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Your Page Title
Close
Close